Essay On Diwali In English Language 2016

Essay On Diwali In English Language:- Below mentioned are Essay On Diwali In English described here. All Essay On Diwali In English are given here. Diwali is the most famous festival of lights celebrated with great rejoice in India. A festival of happiness, Essay On Diwali In English Language, Diwali is a celebration that is not restricted to any set of people. Historically celebrated by Hindus through generations, Diwali denotes the victory of light over darkness. These are the best Essay On Diwali In English Language:


Essay On Diwali In English


India is a land of many Festivals. Many festivals are celebrated with great pomp and show. Each festival has a different religious or mythological significance behind it. Diwali is a one of them. It is the festival of lights. It is celebrated for several days. It comes in the month of around October or early November. 

 Diwali is mainly celebrated by Hindus. It marks the victory of Lord Rama over Ravana. It is celebrated in honour of Lord Rama’s return to Ayodhya after Fourteen Years of exile. Before it come, people clean and whitewash their houses. The toy shops and picture shops are rearranged. Sweets are brought and distributed. Candles and crackers are also sold briskly. It is a festival for shopping. Laxmi pooja is performed. Shop-keepers perform pooja in their shops as well as at home. People greet their relatives and friends with sweets and crackers. Shops are lighted with colourful bulbs and attract huge crowd. 

The evening is the most interesting part of the day when houses are illuminated with earthen lamps or candles. Children burst crackers. One hears the sound of bursting bombs across the city. Every one looks happy and in enjoy. People worship the goddess the wealth ‘Lakshmi’. They pray for health and wealth. People start their new business from this day Diwali. 

Diwali is considered the best festival all over the India. It is called the festival of lights. It gives a message of love, brotherhood and friendship. The heart of every one should be illuminated with light. 

Essay On Diwali In English Language
Essay On Diwali In English Language

 These are the useful essay on diwali in english. All people can use the this essay on diwali in english  This is the best essay on diwali in english language.
 Happy Diwali!



Essay On Diwali In English For Kids 

Many Festival are Celebrated in India by the Hindus. Diwali Is a one of the Very Famous Festival In India. It marks the victory of Lord Rama over Ravana. On This Day , Lord  RAMA  Come To Ayodhya  After 14 Years. The People Of Ayodhya Celebrated His Arrival. The Ayodhya People Lighting Up Their Houses With Candles & Lamps. The People Celebrated This Festival With Their Friends & Relative. People Serve Sweets To Their Friends & Relatives. All People Wear New Dresses On The Diwali. People Decorate Their Homes With Lamps & Candles. Diwali Is Also Called ‘ Festival Of Light ‘. On This Day , All People Enjoy The Firework At Night. 

This is the best essay on diwali in english for kids. 

Happy Diwali!

Essay On Diwali In English Language
Essay On Diwali In English

Above given essay on best essay on diwali in english language for kids. Specially for Small children this is the most helpful essay on diwali in english language.

Essay On Diwali In English Language 

Diwali, popularly called Deepavali in some parts of India. It is a festival which we all long for every year. The preparations for Diwali start long before the festival date.
First, the excitement for us would be the new dresses that are bought to be worn for Diwali. Since Diwali is a festival for more than 2 days, we have 2 or 3 new dresses. Apart from this all elders visiting us buy us sweets and dresses also. People bought different ype clothes like Jeans, T shirts, Trousers and shirts etc. 

The other major excitement for Diwali is the bursting of crackers and fireworks. This year we burst lot of crackers. Some people are to be afraid of crackers. Sparklers, Rockets, Ground Chakkars and Flower pots were our favorites besides the Thousand thousand sparks bomb. 

The third rejoicing aspect of Diwali is the eating of sweets. We visit relatives and friends with sweets and snacks. They also visit us with sweets and snacks. We seek their blessings on the festival day. Gulab jamun, Laddoos, Halwas and Kaju cakes were my favorites. 

Diwali is the victory of Good over Evil is the reason for this celebration. Diwali is to mark the return of Rama to Ayodhya after his defeat of Ravana.
Lots of people also start new ventures on this day after performing Lakshmi Puja. This is marked by lighting of lamps, candles and diyas by the women folk in the family. The light and colour add to the celebrations. 

In all, We can say that Diwali is the brightest festival to be celebrated in India. The delicious food associated with the feast makes us feel that this festival must come more often in a year.

This essay is useful for essay on diwali in english language for all people. They can use for essay on diwali in english.

Essay On Diwali In English For Students 

Diwali is the most important and significant festival for the Hindu religion. It has many rituals, traditional and cultural beliefs of celebrating it. It is celebrated all over the country as well as outside the country with great enthusiasm. This festival is associated with many stories and legends. One of the great legends behind celebrating it is the victory of Lord Rama over the Ravana. That’s why Diwali is the celebrated as a symbol of victory of goodness over the badness. 

People celebrate it by getting together with their relatives as well as nearest and dearest ones. They celebrate it by sharing gifts, sweets, greetings and best wishes for Diwali. All of the enjoy a lot of activities, playing games, firing crackers, puja and many more. People purchase new clothes according to their own capability. Kids enjoy this festival by wearing glittering and blazing clothes. 

People enlighten their home and pathways with the clay diyas to remove the single bit of the darkness and to welcome the Goddess Lakshmi. People indulge in playing games, eating a variety of dishes at home and many more activities. Government offices are also involved in getting clean up and decorated. Everywhere looks enchanting and enthralling because of the cleaning, white washing of walls, decoration and lighting with diyas or candle. 

In the evening, after the sunset men and women perform puja of the Goddess of wealth, Lakshmi and God of wisdom, Ganesh. It is believed that clean up, decoration, lighting diyas are very necessary at this day as Goddess Lakshmi come to visit the houses of everyone. It is celebrated all over the India as a symbolization of the unity.

Also See :  Happy Diwali Essay In Hindi 
                  Flowers  Rangoli designs
                  Short Essay On Diwali In Hindi
                  Essay On Diwali In Marathi
                  Essay On Diwali In Hindi Language
                  Essay On Diwali In English

Here given all of the essay on diwali in english language. These are best essay on diwali in english. Hope you enjoyed the all Essay On Diwali In English Language. We try to best here Essay On Diwali In English Language.

Upcoming Searches:-

Essay on diwali in english language for class 8 

Essay on diwali in english pdf

How we celebrate diwali essay

Essay on diwali in english for class 3

Long essay on diwali in english
Essay on diwali in english for kids
Essay on diwali in english for class 7
ssay on diwali in english for class 5

Short Essay On Diwali In Hindi | English | Marathi | Punjabi | Sanskrit

Short Essay On Diwali In Hindi | English | Marathi | Punjabi | Sanskrit:- Here given the Short Essay On Diwali In Hindi | English | Marathi | Punjabi | Sanskrit. These Short Essay On Diwali are very useful for different languages. These all are the good Short Essay On Diwali In Hindi | English | Marathi | Punjabi | Sanskrit.

Short Essay On Diwali In Hindi | हिंदी में दीवाली पर लघु निबंध

‘दीवाली’ हिन्दुओं का प्रसिद्ध त्यौहार है। दीवाली को ‘दीपावली’ भी कहते हैं। ‘दीपावली’ का अर्थ होता है – ‘दीपों की माला या कड़ी’। 

दीवाली प्रकाश का त्यौहार है। यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक माह की अमावस्या को मनाई जाती है। दीवाली में लगभग सभी घर एवं रास्ते दीपक एवं प्रकाश से रोशन किये जाते हैं।
दीवाली का त्यौहार मनाने का प्रमुख कारण है कि इस दिन भगवान् राम, अपनी पत्नी सीता एवं अपने भाई लक्ष्मण के साथ 14 वर्ष का वनवास बिताकर अयोध्या लौटे थे। उनके स्वागत में अयोध्यावासियों ने दिये जलाकर प्रकाशोत्सव मनाया था। इसी कारण इसे ‘प्रकाश के त्यौहार’ के रूप में मनाते हैं। 

दीवाली के दिन सभी लोग खुशी मनाते हैं एवं एक-दूसरे को बधाईयाँ देते हैं। बच्चे खिलौने एवं पटाखे खरीदते हैं। दुकानों एवं मकानों की सफाई की जाती है एवं रंग पुताई इत्यादि की जाती है। रात्रि में लोग धन की देवी ‘लक्ष्मी’ की पूजा करते हैं।

This is the best Short Essay On Diwali In Hindi.

Also See :  Happy Diwali Essay In Hindi 
                  Flowers  Rangoli designs
                  Short Essay On Diwali In Hindi
                  Essay On Diwali In Marathi
                  Essay On Diwali In Hindi Language
                  Essay On Diwali In English

Short Essay On Diwali In English | Diwali

Diwali or Deepawali means a row or collection of lamps. A few days before Diwali, houses, buildings, shops and temples arc thoroughly cleaned, white-washed and decorated with pictures, toys and flowers. They look as beautiful as a newly, wedded girl. Beautiful pictures are hung on the walls and everything is tip-top. On the Diwali day, people put on rich clothes and move about in a holiday mood. People exchange greetings and gifts or sweets on this day .

At night, buildings are illuminated with earthen lamps, candle-sticks and electric bulbs. The city presents a bright and colourful sight. Sweets and toy shops are tastefully decorated to attract the passers-by. The bazaars and-streets are overcrowded. People buy sweets for their own families and also send them as presents to their friends and relatives. Children explode crackers. At night, Goddess Laxmi, the goddess of wealth, is worshiped in the form of earthen images and silver rupee. People believe that on this day, Hindu Goddess Laxmi enters only those houses which are neat and tidy. People offer prayers for their own health, wealth and prosperity. They let the light on so that Goddess Laxmi may find no difficulty in finding her way in and smile upon them.

Short Essay On Diwali In English
Short Essay On Diwali In English

This is the best Short Essay On Diwali In English.

Short Essay On Diwali In Marathi | मराठी दिवाळी लहान निबंध


सर्व सणांमध्ये दिवाळी हा माझा आवडता सण आहे . दिवाळी हा सन अश्विन महिन्यात येतो . त्यावेळी शाळेला सुट्टी असते . 

दिवाळीच्या दिवसांत आमच्या घरी खूप धामधूम असते . आम्ही घर सजवायला दारावर तोरण बांधतो . मी आणी ताई घरीच कंदील करतो . लाडू, करंज्या , चिवडा , चकल्या असे वेगवेगळे पदार्थ आई बनवते . त्यावेळी तिला आम्ही मदत करतो . 

आईबाबा दिवाळीला आम्हांला नवीन कपडे घेतात . नवीन कपडे घालून आम्ही आनंदाने फिरतो . आम्ही खूप फटाके वाजवतो . मित्रांबरोबर खेळतो आणि भरपूर भटकतो . 

दिवाळीच्या दिवसांत आम्ही दारात रांगोळी काढतो . संध्याकाळी लक्ष्मीची पूजा करतो . भाऊबिजेला ताई मला ओवाळते . मी तिला भेटवस्तू देतो . 

दिवाळी हा प्रकाशाचा सण आहे . तो आनंदाचा सण आहे . दिवाळी सगळीकडे उल्हास असतो . म्हणून दिवाळी हा सण मला खूपच आवडतो .

Short Essay On Diwali In Marathi
Short Essay On Diwali In Marathi

 This is the best Short Essay On Diwali In Marathi.

Short Essay On Diwali In Punjabi | ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਦੀਵਾਲੀ ‘ਤੇ ਆਉਣ ਵਾਲੇ ਲੇਖ

ਦਿਵਾਲੀ ਜਾਂ ਦੀਪਾਵਲੀ ਭਾਰਤ ਦਾ ਇੱਕ ਤਿਉਹਾਰ ਹੈ ਜਿਹੜਾ ਹੋਰ ਵੀ ਕਈ ਦੇਸਾਂ ਵਿੱਚ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਇਸਨੂੰ ਹਿੰਦੂ ਅਤੇ ਜੈਨ ਧਰਮ ਦੇ ਲੋਕ ਮਨਾਂਦੇ ਹਨ। ਹਿੰਦੂ ਇਸਨੂੰ ਸ੍ਰੀ ਰਾਮ ਦੀ ਦੇਸ ਨਿਕਾਲੇ ਤੋਂ ਮੁੜਨ ਦੀ ਖੁਸ਼ੀ ਵਿੱਚ ਮਨਾਂਦੇ ਹਨ। ਜੈਨ ਧਰਮ ਦੇ ਲੋਕ ਮਹਾਂਵੀਰ ਦੇ ਨਿਰਵਾਣ ਲਬਨ ਦੀ ਖੁਸ਼ੀ ਵਿੱਚ ਇਸਨੂੰ ਮਨਾਂਦੇ ਹਨ। ਇਹ ਤਿਉਹਾਰ ਅਕਤੂਬਰ ਅਤੇ ਨਵੰਬਰ ਦੇ ਵਸ਼ਕਾਰ ਮਨਾਇਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ।

This is the best Short Essay On Diwali In Punjabi.

Short Essay On Diwali In Sanskrit

दीपावलिः भारतवर्षस्य एकः महान् उत्सवः अस्त्ति । दीपावलि इत्युक्ते दीपानाम् आवलिः । अयम् उत्सवः कार्तिकमासास्य अमावस्यायां भवति । कार्त्तिकमासस्य कृष्णपक्षस्य त्रयोदशीत: आरभ्य कार्त्तिकशुद्धद्वितीयापर्यन्तं ५ दिनानि यावत् आचर्यते एतत् पर्व । सायंकाले सर्वे जनाः दीपानां मालाः प्रज्वालयन्ति । दीपानां प्रकाशः अन्धकारम् अपनयति । एतत्पर्वावसरे गृहे, देवालये, आश्रमे, मठे, नदीतीरे, समुद्रतीरे एवं सर्वत्रापि दीपान् ज्वालयन्ति । प्रतिगृहं पुरत: आकाशदीप: प्रज्वाल्यते । दीपानां प्रकाशेन सह स्फोटकानाम् अपि प्रकाश: भवति । पुरुषाः स्त्रियः बालकाः बालिकाः च नूतनानि वस्त्राणि धारयन्ति आपणानां च शोभां द्रष्टुं गच्छन्ति । रात्रौ जनाः लक्ष्मीं पूजयन्ति मिष्टान्नानि च भक्षयन्ति । सर्वे जनाः स्वगृहाणि स्वच्छानि कुर्वन्ति, सुधया लिम्पन्ति सुन्दरैः च चित्रैः भूषयन्ति । ते स्वमित्रेभ्यः बन्धुभ्यः च मिष्टान्नानि प्रेषयन्ति । बालकाः बालिकाः च क्रीडनकानां मिष्टान्नानां स्फोटकपदार्थानां च क्रयणं कुर्वन्ति । अस्मिन् दिवसे सर्वेषु विद्यालयेषु कार्यालयेषु च अवकाशः भवति । भारतीयाः इमम् उत्सवम् प्रतिवर्षं सोल्लासं समायोजयन्ति । एवं सर्वरीत्या अपि एतत् पर्व दीपमयं भवति । अस्य पर्वण: दीपालिका, दीपोत्सव:, सुखरात्रि:, सुखसुप्तिका, यक्षरात्रि:, कौमुदीमहोत्सव: इत्यादीनि नामानि अपि सन्ति । अस्मिन्नवसरे न केवलं देवेभ्य: अपि तु मनुष्येभ्य: प्राणिभ्य: अपि दीपारतिं कुर्वन्ति ।

This is the best Short Essay On Diwali In Sanskrit.

Short Essay On Diwali In Hindi Language 

दीपावली, भारत में हिन्दुओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्योहार है। दीपों का खास पर्व होने के कारण इसे दीपावली या दिवाली नाम दिया गया। दीपावली का मतलब होता है, दीपों की अवली यानि पंक्ति। इस प्रकार दीपों की पंक्तियों से सुसज्ज‍ित इस त्योहार को दीपावली कहा जाता है। कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाने वाला यह महापर्व, अंधेरी रात को असंख्य दीपों की रौशनी से प्रकाशमय कर देता है। 

दीप जलाने की प्रथा के पीछे अलग-अलग कारण या कहानियां हैं। हिंदू मान्यताओं में राम भक्तों के अनुसार कार्तिक अमावस्या को भगवान श्री रामचंद्रजी चौदह वर्ष का वनवास काटकर तथा असुरी वृत्तियों के प्रतीक रावणादि का संहार करके अयोध्या लौटे थे।

तब अयोध्यावासियों ने राम के राज्यारोहण पर दीपमालाएं जलाकर महोत्सव मनाया था। इसीलिए दीपावली हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। कृष्ण भक्तिधारा के लोगों का मत है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी राजा नरकासुर का वध किया था। इस नृशंस राक्षस के वध से जनता में अपार हर्ष फैल गया और प्रसन्नता से भरे लोगों ने घी के दीए जलाए। एक पौराणिक कथा के अनुसार विंष्णु ने नरसिंह रुप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था तथा इसी दिन समुद्रमंथन के पश्चात लक्ष्मी व धन्वंतरि प्रकट हुए।

Short Essay On Diwali In Hindi
Short Essay On Diwali In Hindi

A Short Essay On Diwali In Hindi 

दीपावली का अर्थ है – दीपों की पंक्तियां। दीपावली के दिन प्रत्येक घर दीपों की पंक्तियों से शोभायमान रहता है। दीपों, मोमबत्तियों और बिजली की रोशनी से घर का कोना-कोना प्रकाशित हो उठता है। इसलिए दीपावली को रोशनी का पर्व भी कहा जाता है। 

दीपावली कार्तिक माह की अमावस को मनाई जाती है। रोशनी से अंधकार दूर हो जाता है। इसी तरह मन में अच्‍छे विचारों को प्रकाशित कर हम मन के अंधकार को दूर कर सकते हैं।
यह त्योहार अपने साथ ढेरों खुशियां लेकर आता है। एक-दो हफ्ते पूर्व से ही लोग घर, आंगन, मोहल्ले और खलिहान को दुरुस्त करने लगते हैं। बाजार में रंग-रोगन और सफेदी के सामानों की खपत बढ़ जाती है। ठंडे मौसम की हल्की-सी आहट से तन-मन की शीतलता बढ़ जाती है।
दीपावली का दिन आने पर घर में खुशी की लहर दौड़ जाती है। बाजार में मिट्‍टी के दीपों, खिलौनों, खील-बताशों और मिठाई की दुकानों पर भीड़ होती है। दुकानदार, व्यापारी अपने बहीखातों की पूजा करते हैं और कई इसी दिन नए ‍वित्तीय वर्ष की शुरुआत भी करते हैं। 

संध्या के समय घर-आंगन और बाजार जगमगा उठते हैं। पटाखों की गूंज और फुलझड़ियों के रंगीन प्रकाश से चारों ओर खुशी का वातावरण उपस्थित हो जाता है। घर-घर में पकवान बनाए जाते हैं। बच्चों की स्कूल की छुट्‍टियों से इस त्योहार का मजा दोगुना हो जाता है। 

दीपावली के दिन भारत में विभिन्न स्थानों पर मेले लगते हैं। दीपावली एक दिन का पर्व नहीं अपितु पर्वों का समूह है। दशहरे के पश्चात ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है। लोग नए-नए वस्त्र सिलवाते हैं। दीपावली से दो दिन पूर्व धनतेरस का त्योहार आता है। इस बाजारों में चारों तरफ चहल-पहल दिखाई पड़ती है।  

बर्तनों की दुकानों पर विशेष साजसज्जा व भीड़ दिखाई देती है। धनतेरस के दिन बरतन खरीदना शुभ माना जाता है अतैव प्रत्येक परिवार अपनी-अपनी आवश्यकता अनुसार कुछ न कुछ खरीदारी करता है। इस दिन तुलसी या घर के द्वार पर एक दीपक जलाया जाता है। इससे अगले दिन नरक चतुर्दशी या छोटी दीपावली होती है। इस दिन यम पूजा हेतु दीपक जलाए जाते हैं।

 So, in the end we hope that these  Short Essay On Diwali In Hindi | English | Marathi | Punjabi | Sanskrit are useful for you. Please refer for Short Essay On Diwali In Hindi | English | Marathi | Punjabi | Sanskrit it.

Upcoming Searches:-

Short essay on diwali in marathi language
Short essay on diwali in hindi for class 4
Short essay on diwali festival in marathi language
Short essay on diwali my favourite festival in marathi language
Short essay on diwali in hindi for class 6
Short essay on diwali in hindi for class 3
Short essay on diwali in hindi for class 2

Essay On Diwali In Marathi Language {Latest 2016}

 Essay On Diwali In Marathi Language:-Essay On Diwali In Marathi are described here. All Essay On Diwali In Marathi are given here. Diwali is a great festival of lights celebrated with great rejoice in India. A festival of happiness, Essay On Diwali In Marathi Language, Diwali is a celebration that is not restricted to any set of people. Historically celebrated by Hindus through generations, Diwali denotes the victory of light over darkness. Diwali Essay In Marathi Language:

Essay On Diwali In Marathi

दिवाळीचे दुसरं नांव दीपावली. हा उत्सव म्हणजे दीपोत्सव. दिव्यांचा उत्सव दिव्यांच्या असंख्य ओळी घराअंगणात लावल्या जातात. म्हणून तिचं नाव दीपावली. 

ह्या सणाची सुरवात वसुबारसेपासून योते आणि भाऊबीज साजरी केल्यानंतर दिवाळीची सांगता होते. सर्व अबाल वृद्ध, मुले, स्त्रीया ह्यांचा हा लाडका सण. दिवाळी येणार म्हटलं की आवराआवर रंगरंगोटी. नव्या कपड्यांची, दागिन्यांची, घरातील वस्तूची खरेदीची ही पर्वणी. फटाक्यांची आतिषबाजी अन चविष्ट दिवाळी फराळाचा स्वाद हे ह्या सणाच आणखी एक वैशिष्ट्य. 

आपला भारत देश हा कृषीप्रधान देश. आपली थोर संस्कृती सुद्ध सर्वंवर प्रेम करायला शिकवणारी. म्हणूनच की काय वसुबारस ह्या दिवशी आपण गाय आणि वासरू ह्यांची पूजा करतो. त्यांना गोडाचा घास खाऊ घालतो. दुध-दुपत्यासाठी होणारा गायीचा उपयोग शेतीच्या कामी बैलाची होणारी मदत ह्या गोष्टी लक्षांत घेऊन त्या गोधनाची केलेलीही कृतज्ञता पूजा. 

धनत्रयोदशीला तिन्ही सांजेला केली जाणारी धनाची पूजा, नैवेद्याला ठेवला जाणारा धने-गुळाचा प्रसाद ह्याला ही फार मोठे महत्त्व आहे. ह्याच दिवशी एक दिवा तयार करून तो यमदेवतेसाठी लावला जातो. दक्षिण दिशा ही यमाची दिशा म्हणून त्या दिवशी त्या दिव्याची ज्योत ही दक्षिणेला केली जाते. 

नरक चतुर्दशी हा मुख्य दिवाळीचा पहिला दिवस. ह्या दिवशी पहाटे उठून अभ्यंग स्नान करायचे. नवीन वस्त्रे परिधान करायची. देवदर्शन घ्यायचे आणि सर्वांनी एकत्र जमून दिवाळी फराळ करायचा असा हा आनंद साजरा करण्याचा दिवस. ह्या दिवसाची एक पौराणिक कथा जोडली आहे ती अशी की श्रीकृष्णानी अत्याचारी नरकासुराचा वध करून त्याच्या बंदी शाळेतल्या सोळा सहस्त्र कन्यांची मुक्तता केली. तो हा दिवस, दुष्टाचा नाशा आणि मुक्ताचा आनंद हे या दिवसामागचे आनंद साजरा करण्याचे कारण आहे. 

अश्विनातले शेवटचे दोन दिवस आणि कार्तिकाचे पहिले दोन दिवस अशी ही चार दिवसांची मुख्य दिवाळी. अश्विन वद्य‍अमावस्येला संध्याकाळी घरोघरी, दुकानांतून सोन्या-चांदीच्या पेढ्यातून, ऑफिसातून लक्ष्मीपूजन केले जाते. घरातल सोन नाणं-रोकड ह्यांची पूजा करतात. व्यापारी सर्व हिशेबाच्या वह्यांच पूजन करतो. ह्या धनलक्ष्मीच्या पूजनाबरोबरच त्या दिवशी आरोग्य लक्ष्मी ( केरसुणी ) हिची पण पूजा करतात. लक्ष्मी पूजनानंतर फटाक्यांची अतिषबाजी करून आनंद साजरा केला जातो. 

पाडवा म्हणजे बलिप्रतिपदा साडेतीन मुहुर्तातला एक मुहुर्त. ह्या दिवशी अनेक नवे प्रकल्प चालू केले जातात. पाडव्याच्या दिवशी पत्नी पतीला ओवाळते. पती पत्नीला पाडव्याची भेट म्हणून वस्तू, दागिना किंवा साडी भेट देतो. 

कार्तिक शुद्ध द्वितीयेलाच यमद्वितीया किंवा भाऊबीज असे म्हणतात. बहिण भावाच्या उत्कट प्रेमाचा हा दिवस, बहिण भावाला स्नान घालते, गोड भोजन देते, ओवाळते आणि भाऊ बहिणीला ओवाळणी घालतो.

Essay On Diwali In Marathi Language
Essay On Diwali In Marathi Language
This essay is very useful for essay on diwali in marathi. All of the students can use for Essay On Diwali In Marathi Language. 

Short Essay On Diwali In Marathi Language 

दिवाळी, अथवा दीपावली हा प्रामुख्याने हिंदू, तसेच दक्षिण आशिया व आग्नेय आशियातील अन्य धर्मीय समाजांत काही प्रमाणात साजरा केला जाणारा उत्सव आहे. 

भारत[१], गयाना, त्रिनिदाद व टोबॅगो, फिजी, मलेशिया, म्यानमार, मॉरिशस, श्रीलंका, सिंगापूर[२] व सुरिनाम या देशांमध्ये दिवाळीनिमित्त सार्वजनिक सुट्टी असते. 

उपलब्ध पुराव्यांनुसार दिवाळी हा सण किमान तीन हजार वर्षे जुना आहे. पण त्या वेळी त्याचे स्वरूप आजच्यापेक्षा खूपच भिन्न होते. प्राचीन काळी हा यक्षांचा उत्सव मानला जायचा. दीपावलीचे मुळचे नाव यक्षरात्री असे होते हे हेमचंद्राने नोंदवले आहे, तसेच वात्स्यायनाच्या कामसूत्रातही नोंदलेले आहे. रात्रीच्या अंधाराला चिरून प्रकाशाचे अस्तित्व निर्माण करणारा दीप मांगल्याचे प्रतीक मानला जातो. याच्या प्रकाशाने आपल्या जीवनातील अंधकार दूर व्हावा म्हणून हा दीपोत्सव साजरा केला जातो. निसर्गाने पावसाळ्यात भरभरून दिलेल्या समृद्धीच्या आनंद उत्सवाचा, कृतज्ञतेचा हा सोहळा असतो. या दिवशी सायंकाळी दारात रांगोळ्या काढून पणत्या लावतात, घरांच्या दारात आकाशदिवे लावतात  

Source: wikipedia

Essay On Diwali In Marathi Language
Essay On Diwali In Marathi Language
This is a short essay on diwali in marathi language, which is specially used student for 2nd to 5th standard. Essay On Diwali In Marathi Language

Also See :  Happy Diwali Essay In Hindi 
                  Flowers  Rangoli designs
                  Short Essay On Diwali In Hindi
                  Essay On Diwali In Marathi
                  Essay On Diwali In Hindi Language
                  Essay On Diwali In English

Essay On Diwali In Marathi Language For Students

दीवाली या दीपावली यह भी रोशनी या दीपावली या दिवाली के त्योहार के रूप में कहा जाता है कि भारत, नेपाल, श्रीलंका Lanks, सिंगापुर, फिजी और अन्य देशों आदि acros मनाया एक प्रमुख हिंदू त्योहार है। यह लक्ष्मी, प्रकाश, भाग्य की देवी की पूजा हिंदुओं द्वारा मनाया जाता है। 

दीवाली आमतौर पर 10 नवंबर और भारत में 11 नवंबर को मनाया जाता है November.Diwali 2015 के अक्टूबर के महीने के दौरान होता है जो कार्तिक के महीने में होता है। यह भी 14 साल के अपने निर्वासन से भगवान राम की वापसी के चिह्न के रूप में उत्तरी भारत में मनाया जाता है। दिवाली ठीक 20 दिन बाद दशहरा गिर जाता है। 

दीपावली deeps या दीये के त्योहार का मतलब है। गहरी या दीया तेल और मोमबत्ती धागे से भर जाता है जो एक छोटे से मिट्टी की संरचना में जलाया जाता है, जो रोशनी कर रहे हैं।
दीवाली का जश्न मना सभी हिंदुओं वितरित कर रहे हैं diwali.Sweets जश्न मनाने के लिए पटाखे जला दीये और बच्चों और बड़ों के रूप में जाना जाता रोशनी के साथ उनके घरों, कार्यस्थलों, दुकानें, व्यापारिक घरानों को जलाया और दीवाली के लिए पटाखे के साथ विमर्श किया।
दुकान रखवाले की दीवाली बहुत दौरान ग्राहकों को अधिक से अधिक खरीदारी करने के लिए छूट और कूपन कोड प्रदान करते हैं। 

इस दिवाली को याद करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हम कूड़े हमारे पड़ोसी हुड नहीं है और हम पटाखे जला जब छोटे बच्चों और बड़ों की देखभाल सुनिश्चित करने के लिए है। यह पानी से भरी बाल्टी के आसपास, बड़ों बच्चों बड़ों की देखरेख में एक खुले मैदान में पटाखे अकेले पटाखे जलाने और जलाने की अनुमति नहीं है होने की तरह सुरक्षा उपाय करने के लिए महत्वपूर्ण है। दीवाली प्रकाश का त्योहार है, लेकिन कारण आग मुद्दों के लिए कई दुर्घटनाएं होती हैं। एक खुशी के पल एक दुखद एक कन्वर्ट करने के लिए avoide करने के लिए इस बात का ख्याल रखना है। त्योहार का आनंद और आप पटाखे जला जब सावधान रहना है। 

दीवाली प्रोन्नति तो आप अपने आप के लिए बहुत सारा पैसा बचाने के लिए उपलब्ध विशेष प्रचार और कूपन कोड का उपयोग कर दुकान के लिए सुनिश्चित करें कम से कम 2-3 दिन वास्तविक त्योहार से पहले चला रहे हैं। 

हैप्पी दीवाली 2016 के एक सुरक्षित दीवाली है।

 This video is useful for write the Essay On Diwali In Marathi Language. You can also this content in Essay On Diwali In Marathi.

Here given the best essay on diwali in marathi language . The festivals are made to free up the person from the busy life and for fun.We shared here Essay On Diwali In Marathi.

Upcoming Searches:-

Short essay on diwali in marathi language
Essay On Diwali in marathi
Essay on diwali in marathi language pdf
Information on diwali festival in marathi language
Diwali in marathi wikipedia
Essay on diwali in marathi language for class 2

Happy Diwali Essay In Hindi Language For Students And Childrens {2016}

Happy Diwali Essay In Hindi:-Happy Diwali Essay in Hindi and Happy Diwali Essay in Hindi are given here.  On this Festival People Light their Houses with colorful Lamps. You Might Search for Happy Diwali Essay in Hindi and Wishes to wish your friends and family members on this Diwali. So we have collected Best Happy Diwali Essay in Hindi.

Diwali Essay In Hindi

दीपावली का अर्थ है – दीपों की पंक्तियां। दीपावली के दिन प्रत्येक घर दीपों की पंक्तियों से शोभायमान रहता है। दीपों, मोमबत्तियों और बिजली की रोशनी से घर का कोना-कोना प्रकाशित हो उठता है। इसलिए दीपावली को रोशनी का पर्व भी कहा जाता है।
दीपावली कार्तिक माह की अमावस को मनाई जाती है। रोशनी से अंधकार दूर हो जाता है। इसी तरह मन में अच्‍छे विचारों को प्रकाशित कर हम मन के अंधकार को दूर कर सकते हैं।
यह त्योहार अपने साथ ढेरों खुशियां लेकर आता है। एक-दो हफ्ते पूर्व से ही लोग घर, आंगन, मोहल्ले और खलिहान को दुरुस्त करने लगते हैं। बाजार में रंग-रोगन और सफेदी के सामानों की खपत बढ़ जाती है। ठंडे मौसम की हल्की-सी आहट से तन-मन की शीतलता बढ़ जाती है।
दीपावली का दिन आने पर घर में खुशी की लहर दौड़ जाती है। बाजार में मिट्‍टी के दीपों, खिलौनों, खील-बताशों और मिठाई की दुकानों पर भीड़ होती है। दुकानदार, व्यापारी अपने बहीखातों की पूजा करते हैं और कई इसी दिन नए ‍वित्तीय वर्ष की शुरुआत भी करते हैं।
संध्या के समय घर-आंगन और बाजार जगमगा उठते हैं। पटाखों की गूंज और फुलझड़ियों के रंगीन प्रकाश से चारों ओर खुशी का वातावरण उपस्थित हो जाता है। घर-घर में पकवान बनाए जाते हैं। बच्चों की स्कूल की छुट्‍टियों से इस त्योहार का मजा दोगुना हो जाता है।
रात्रि में पटाखे चलाए जाते हैं। लगभग पूरी रात पटाखों का शोरगुल बना रहता है। दीपावली की बधाइयों के आदान-प्रदान का सिलसिला चल पड़ता है।
दीपावली के दिन भारत में विभिन्न स्थानों पर मेले लगते हैं। दीपावली एक दिन का पर्व नहीं अपितु पर्वों का समूह है। दशहरे के पश्चात ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है। लोग नए-नए वस्त्र सिलवाते हैं। दीपावली से दो दिन पूर्व धनतेरस का त्योहार आता है। इस बाजारों में चारों तरफ चहल-पहल दिखाई पड़ती है।
बर्तनों की दुकानों पर विशेष साजसज्जा व भीड़ दिखाई देती है। धनतेरस के दिन बरतन खरीदना शुभ माना जाता है अतैव प्रत्येक परिवार अपनी-अपनी आवश्यकता अनुसार कुछ न कुछ खरीदारी करता है। इस दिन तुलसी या घर के द्वार पर एक दीपक जलाया जाता है। इससे अगले दिन नरक चतुर्दशी या छोटी दीपावली होती है। इस दिन यम पूजा हेतु दीपक जलाए जाते हैं।
दीपावली से जुड़ी महत्वपूर्ण घटनाएं
इस दिन भगवान राम, लक्ष्मण और माता जानकी 14 वर्ष का वनवास पूर्ण कर अयोध्या लौटे थे और उनके आने की खुशी में नगरवासियों ने घर-घर घी के दीये जलाए थे। तभी‍ से इस त्योहार की शुरुआत हुई।
लक्ष्मी पूजा के दूसरे दिन “गोवर्धन पूजा” मनाया जाता है। इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने इन्द्र को पराजित किया था।

Happy Diwali Essay In Hindi For Class 5 

Happy Diwali Essay In Hindi For Class 4 

दिपावली एक महत्वपूर्णं और प्रसिद्ध उत्सव है जिसे हर साल देश और देश के बाहर विदेश में भी मनाया जाता है। इसे भगवान राम के चौदह साल के वनवास से अयोध्या वापसी के बाद और लंका के राक्षस राजा रावण को पराजित करने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।
भगवान राम की वापसी के बाद, भगवान राम के स्वागत के लिये सभी अयोध्या वासीयों ने पूरे उत्साह से अपने घरों और रास्तों को सजा दिया। ये एक पावन हिन्दू पर्व है जो बुराई पर सच्चाई की जीत के प्रतीक के रुप में है। इसे सिक्खों के छठवें गुरु श्रीहरगोविन्द जी के रिहाई की खुशी में भी मनाया जाता है, जब उनको ग्वालियर के जेल से जहाँगीर द्वारा छोड़ा गया।
बाजारों को दुल्हन की तरह शानदार तरीके से सजा दिया जाता है। इस दिन बाजारों में खासा भीड़ रहती है खासतौर से मिठाईयों की दुकानों पर, बच्चों के लिये ये दिन मानो नए कपड़े, खिलौने, पटाखें और उपहारों की सौगात लेकर आता है। दिवाली आने के कुछ दिन पहले ही लोग अपने घरों की साफ-सफाई के साथ बिजली की लड़ियों से रोशन कर देते है।
देवी लक्ष्मी की पूजा के बाद आतिशबाजी का दौर शरु होता है। इसी दिन लोग बुरी आदतों को छोड़कर अच्छी आदतों को अपनाते है। भारत के कुछ जगहों पर दिवाली को नये साल की शुरुआत माना जाता है साथ ही व्यापारी लोग अपने नये बही खाता से शुरुआत करते है।
दिवाली सभी के लिये एक खास उत्सव है क्योंकि ये लोगों के लिये खुशी और आशीर्वाद लेकर आता है। इससे बुराई पर अच्छाई की जीत के साथ ही नये सत्र की शुरुआत भी होती है।

Happy Diwali Essay In Hindi For Kids

 दीपावली का अर्थ है दीपों की पंक्ति। दीपावली शब्द ‘दीप’ एवं ‘आवली’ की संधि से बना है। आवली अर्थात पंक्ति। इस प्रकार दीपावली शब्द का अर्थ है, दीपों की पंक्ति। भारतवर्ष में मनाए जानेवाले सभी त्यौहारों में दीपावली का सामाजिक और धार्मिक दोनों दृष्टि से अत्यधिक महत्त्व है। इसे दीपोत्सव भी कहते हैं। ‘तमसो मा ज्योतिर्गमय’ अर्थात् ‘अंधेरे से ज्योति अर्थात प्रकाश की ओर गमन’।
दीप जलाने की प्रथा के पीछे अलग-अलग कारण या कहानियां हैं। हिंदू मान्यताओं में राम भक्तों के अनुसार कार्तिक अमावस्या को भगवान श्री रामचंद्रजी चौदह वर्ष का वनवास काटकर तथा असुरी वृत्तियों के प्रतीक रावणादि का संहार करके अयोध्या लौटे थे।
तब अयोध्यावासियों ने राम के राज्यारोहण पर दीपमालाएं जलाकर महोत्सव मनाया था। इसीलिए दीपावली हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। कृष्ण भक्तिधारा के लोगों का मत है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी राजा नरकासुर का वध किया था। इस नृशंस राक्षस के वध से जनता में अपार हर्ष फैल गया और प्रसन्नता से भरे लोगों ने घी के दीए जलाए। एक पौराणिक कथा के अनुसार विंष्णु ने नरसिंह रुप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था तथा इसी दिन समुद्रमंथन के पश्चात लक्ष्मी व धन्वंतरि प्रकट हुए।

दीपावली या दीवाली रोशनी का त्योहार हैदीपावली का अर्थ है दीपों की पंक्ति।दीपावली दीपों का त्योहार है।इसे दीवाली या दीपावली भी कहते हैं।इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं।दीपावली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए थे।तब से आज तक प्रति वर्ष यह पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं।यह पर्व अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है।दीवाली अँधेरे से रोशनी में जाने का प्रतीक है।कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है।दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।दीवाली भारत में एक सरकारी छुट्टी हैदिवाली भारत के आलावा नेपाल , श्रीलंका , म्यांमार , मारीशस , गुयाना , त्रिनिदाद और टोबैगो , सूरीनाम , मलेशिया , सिंगापुर और फिजी में भी मनाया जाता है .हिंदुओं के लिए दीवाली एक महत्वपूर्ण त्यौहार है.

Diwali Essay In Hindi
Diwali Essay In Hindi

Happy Diwali Essay In Hindi Language 

भारत एक ऐसा देश है जहाँ सबसे ज्यादा त्योहार मनाये जाते है, यहाँ विभिन्न धर्मों के लोग अपने-अपने उत्सव और पर्व को अपने परंपरा और संस्कृति के अनुसार मनाते है। दिवाली हिन्दू धर्म के लिये सबसे महत्वपूर्णं, पारंपरिक, और सांस्कृतिक त्योहार है जिसको सभी अपने परिवार, मित्र और पड़ोसियों के साथ पूरे उत्साह से मनाते है। दिपावली को रोशनी का त्योहार भी कहा जाता है।
ये बेहद खुशी का पर्व है जो हर साल अक्टूबर या नवंबर के महीने में आता है। हर साल आने वाली दिवाली के पीछे भी कई कहानीयाँ है जिसके बारे में हमें अपने बच्चों को जरुर बताना चाहिये। दिवाली मनाने का एक बड़ा कारण भगवान राम का अपने राज्य अयोध्या लौटना भी है, जब उन्होंने लंका के असुर राजा रावण को हराया था। इसके इतिहास को हर साल बुराई पर अच्छाई के प्रतीक के रुप में याद किया जाता है। अपनी पत्नी सीता और छोटे भाई लक्ष्मण के साथ 14 साल का वनवास काट कर लौटे अयोध्या के महान राजा राम का अयोध्या वासीयों ने जोरदार स्वागत किया था। अयोध्या वासीयों ने अपने राजा के प्रति अपार स्नेह और लगाव को दिल से किये स्वागत के द्वारा प्रकट किया। उन्होंने अपने घर और पूरे राज्य को रोशनी से जगमगा दिया साथ ही राजा राम के स्वागत के लिये आतिशबाजी भी बजाए। 

अपने भगवान को प्रसन्न करने के लिये लोगों ने लजीज पकवान बनाये, हर कोई एक दूसरे को बधाई दे रहा था, बच्चे भी खूब खुश थे और इधर-उधर घूमकर अपनी प्रसन्नता जाहिर कर रहे थे। हिन्दू कैलेंडर के अनुसार सूरज डूबने के बाद लोग इसी दिन देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा करते है। जहाँ एक ओर लोग ईश्वर की पूजा कर सुख, समृद्धि और अच्छे भविष्य की कामना करते है वहीं दूसरी ओर पाँच दिनों के इस पर्व पर सभी अपने घर में स्वादिष्ट भोजन और मिठाईयां भी बनाते है। इस दिन लोग पाशा, पत्ता आदि कई प्रकार के खेल भी खेलना पसंद करते है। इसको मनाने वाले अचछे क्रियाकलापों में भाग लेते है और बुराई पर अच्छाई की जीत के लिये गलत आदतों का त्याग करते हैं। इनका मानना है कि ऐसा करने से उनके जीवन में ढ़ेर सारी खुशियाँ, समृद्धि, संपत्ति और प्रगति आयेगी। इस अवसर पर सभी अपने मित्र, परिवार और रिश्तेदारों को बधाई संदेश और उपहार देते है। 

रोशनी का उत्सव ‘दीपावली’ असल में दो शब्दों से मिलकर बना है- दीप+आवली। जिसका वास्तविक अर्थ है , दीपों की पंक्ति। वैसे तो दीपावली मनाने के पीछे कई सारी पौराणिक कथाएं कही जाती है लेकिन जो मुख्य रुप से प्रचलित मान्यता है वो है असुर राजा रावण पर विजय और भगवान राम का चौदह साल का वनवास काटकर अपने राज्य अयोध्या लौटना। इस दिन को हम बुराई पर अच्छाई की जीत के लिये भी जानते है। चार दिनों के इस पर्व का हर दिन किसी खास परंपरा और मान्यता से जुड़ा हुआ है जिसमें पहला दिन धनतेरस का होता है इसमें हमलोग सोने-चाँदी के आभूषण या बर्तन खरीदते है, दूसरे दिन छोटी दिपावली होती है जिसमें हमलोग शरीर के सारे रोग और बुराई मिटाने के लिये सरसों का उपटन लगाते है, तीसरे दिन मुख्य दिपावली होती है इस दिन लक्ष्मी-गणेश की पूजा की जाती है जिससे घर में सुख और संपत्ति का प्रवेश हो, चौथे दिन हिन्दू कैलेंडर के अनुसार नए साल का शुभारम्भ होता है और अंत में पाँचवां दिन भाई-बहन का होता है अर्थात् इस दिन को भैया दूज कहते है।

Happy Diwali Essay In Hindi Language  

दिवाली को रोशनी का उत्सव या लड़ीयों की रोशनी के रुप में भी जाना जाता है जोकि घर में लक्ष्मी के आने का संकेत है साथ ही बुराई पर अच्छाई की जीत के लिये मनाया जाता है। असुरों के राजा रावण को मारकर प्रभु श्रीराम ने धरती को बुराई से बचाया था। ऐसा माना जाता है कि इस दिन अपने घर, दुकान, और कार्यालय आदि में साफ-सफाई रखने से उस स्थान पर लक्ष्मी का प्रवेश होता है। उस दिन घरों को दियों से सजाना और पटाखे फोड़ने का भी रिवाज है।
ऐसी मान्यता है कि इस दिन नई चीजों को खरीदने से घर में लक्ष्मी माता आती है। इस दिन सभी लोग खास तौर से बच्चे उपहार, पटाखे, मिठाईयां और नये कपड़े बाजार से खरीदते है। शाम के समय, सभी अपने घर में लक्ष्मी अराधना करने के बाद घरों को रोशनी से सजाते है। पूजा संपन्न होने पर सभी एक दूसरे को प्रसाद और उपहार बाँटते है साथ ही ईश्वर से जीवन में खुशियों की कामना करते है। अंत में पटाखों और विभिन्न खेलों से सभी दिवाली की मस्ती में डूब जाते है।

भारत एक ऐसा देश है जिसको त्योहारों की भूमि कहा जाता है। इन्हीं पर्वों मे से एक खास पर्व है दीपावली जो दशहरा के 20 दिन बाद अक्टूबर या नवंबर के महीने में आता है। इसे भगवान राम के 14 साल का वनवास काटकर अपने राज्य में लौटेने की खुशी में मनाया जाता है। अपनी खुशी जाहिर करने के लिये अयोध्यावासी इस दिन राज्य को रोशनी से नहला देते है साथ ही पटाखों की गूंज में सारा राज्य झूम उठता है।

दीपावली-पर-निबंध 

दिपावली एक महत्वपूर्णं और प्रसिद्ध उत्सव है जिसे हर साल देश और देश के बाहर विदेश में भी मनाया जाता है। इसे भगवान राम के चौदह साल के वनवास से अयोध्या वापसी के बाद और लंका के राक्षस राजा रावण को पराजित करने के उपलक्ष्य में मनाया जाता है।

भगवान राम की वापसी के बाद, भगवान राम के स्वागत के लिये सभी अयोध्या वासीयों ने पूरे उत्साह से अपने घरों और रास्तों को सजा दिया। ये एक पावन हिन्दू पर्व है जो बुराई पर सच्चाई की जीत के प्रतीक के रुप में है। इसे सिक्खों के छठवें गुरु श्रीहरगोविन्द जी के रिहाई की खुशी में भी मनाया जाता है, जब उनको ग्वालियर के जेल से जहाँगीर द्वारा छोड़ा गया।
बाजारों को दुल्हन की तरह शानदार तरीके से सजा दिया जाता है। इस दिन बाजारों में खासा भीड़ रहती है खासतौर से मिठाईयों की दुकानों पर, बच्चों के लिये ये दिन मानो नए कपड़े, खिलौने, पटाखें और उपहारों की सौगात लेकर आता है। दिवाली आने के कुछ दिन पहले ही लोग अपने घरों की साफ-सफाई के साथ बिजली की लड़ियों से रोशन कर देते है।
देवी लक्ष्मी की पूजा के बाद आतिशबाजी का दौर शरु होता है। इसी दिन लोग बुरी आदतों को छोड़कर अच्छी आदतों को अपनाते है। भारत के कुछ जगहों पर दिवाली को नये साल की शुरुआत माना जाता है साथ ही व्यापारी लोग अपने नये बही खाता से शुरुआत करते है।
दिवाली सभी के लिये एक खास उत्सव है क्योंकि ये लोगों के लिये खुशी और आशीर्वाद लेकर आता है। इससे बुराई पर अच्छाई की जीत के साथ ही नये सत्र की शुरुआत भी होती है।

                  Flowers  Rangoli designs
                  Short Essay On Diwali In Hindi
                  Essay On Diwali In Marathi
                  Essay On Diwali In Hindi Language

                  Essay On Diwali In English
These all are the best diwali essay in hindi language for student and children. The festivals are made to free up the person from the busy life and for fun.We had shared Diwali Essay In Hindi.

Upcoming Searches:-

diwali essay in hindi wikipedia
diwali essay in hindi for kids
diwali long essay in hindi
diwali essay in hindi for children
diwali essay in hindi font
diwali essay in hindi pdf
diwali essay in hindi with pictures
diwali essay in hindi for class 5


Essay On Diwali In Hindi Language for Students {2016}

Essay On Diwali In Hindi :- on the off chance that you are looking for Essay On Diwali In Hindi Language, Diwali Essay in Hindi, hindi essay on diwali then you are exceptionally fortunate that you discover us. Essay On Diwali In Hindi,  Here we have awesome essay on diwali in hindi language.

Essay On Diwali In Hindi 

दीपावली, भारत में हिन्दुओं द्वारा मनाया जाने वाला सबसे बड़ा त्योहार है। दीपों का खास पर्व होने के कारण इसे दीपावली या दिवाली नाम दिया गया। दीपावली का मतलब होता है, दीपों की अवली यानि पंक्ति। इस प्रकार दीपों की पंक्तियों से सुसज्ज‍ित इस त्योहार को दीपावली कहा जाता है। कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाने वाला यह महापर्व, अंधेरी रात को असंख्य दीपों की रौशनी से प्रकाशमय कर देता है।

दीप जलाने की प्रथा के पीछे अलग-अलग कारण या कहानियां हैं। हिंदू मान्यताओं में राम भक्तों के अनुसार कार्तिक अमावस्या को भगवान श्री रामचंद्रजी चौदह वर्ष का वनवास काटकर तथा असुरी वृत्तियों के प्रतीक रावणादि का संहार करके अयोध्या लौटे थे।

तब अयोध्यावासियों ने राम के राज्यारोहण पर दीपमालाएं जलाकर महोत्सव मनाया था। इसीलिए दीपावली हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है। कृष्ण भक्तिधारा के लोगों का मत है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी राजा नरकासुर का वध किया था। इस नृशंस राक्षस के वध से जनता में अपार हर्ष फैल गया और प्रसन्नता से भरे लोगों ने घी के दीए जलाए। एक पौराणिक कथा के अनुसार विंष्णु ने नरसिंह रुप धारणकर हिरण्यकश्यप का वध किया था तथा इसी दिन समुद्रमंथन के पश्चात लक्ष्मी व धन्वंतरि प्रकट हुए।

Essay on Diwali in hindi
Essay on Diwali in hindi

Here you will get essay on diwali in hindi , essay on diwali in hindi   essay on diwali in hindi language. People of Hindu religion wait very eagerly with this special festival of Diwali. It is an essential and favorite festival of everybody specifically for kids and kids of the house. Use following essay on Diwali to create your children wise enough both at home and school and motivate these to be aware of background and value of honoring Diwali festival each year. You are able to select anybody of those Diwali essay based on your need:

Essay On Diwali In Hindi For Class 3

जैन मतावलंबियों के अनुसार चौबीसवें तीर्थंकर महावीर स्वामी का निर्वाण दिवस भी दीपावली को ही है। सिक्खों के लिए भी दीवाली महत्त्वपूर्ण है क्योंकि इसी दिन ही अमृतसर में 1577 में स्वर्ण मन्दिर का शिलान्यास हुआ था। इसके अलावा 1619 में दीवाली के दिन सिक्खों के छठे गुरु हरगोबिन्द सिंह जी को जेल से रिहा किया गया था।

नेपालियों के लिए यह त्योहार इसलिए महान है क्योंकि इस दिन से नेपाल संवत में नया वर्ष शुरू होता है। पंजाब में जन्मे स्वामी रामतीर्थ का जन्म व महाप्रयाण दोनों दीपावली के दिन ही हुआ। इन्होंने दीपावली के दिन गंगातट पर स्नान करते समय ‘ओम’ कहते हुए समाधि ले ली। महर्षि दयानंद ने भारतीय संस्कृति के महान जननायक बनकर दीपावली के दिन अजमेर के निकट अवसान लिया। इन्होंने आर्य समाज की स्थापना की।

Essay On Diwali In Hindi For Class 7 

दीपावली दीपों का त्योहार है। प्रतिवर्ष पूरे भारत सहित विश्व को कोने-कोने में हिन्दू धर्मावलम्बियों द्वारा इस पर्व को पूरे हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है। इस त्योहार का हिन्दू धर्म में अत्यंत महत्व है। इसे प्रकाश का त्योहार भी कहा जाता है। प्रतिवर्ष आश्विन मास की अमावश्या को दीप जलाकर और पटाखे छोड़ कर इसका आनंद लेते हैं।

दीपावली क्यों मनाया हटा है इसके पीछे अनेक पौराणिक कथाएँ प्रचलित हैं। इनमें से एक प्रसिद्ध कथा है की जब भगवान राम, रावण के वध के पश्चात अयोध्या लौटे तो वो दिन अमावश्या का था। अतः लोगों ने अपने प्रिय राम के स्वागत और अंधेरे को दूर भागने के लिए पूरे अयोध्या को दीपों से प्रज्वलित कर दिया था। अतः ये प्रथा तब से चलने लगी। एक अन्य मान्यता के अनुसार इसी दिन धन और संपन्नता की देवी लक्ष्मी, राजा बाली के चंगुल से आजाद हुई थी। चंद कलेंडर के अनुसार इस दिन को हिन्दू कलेंडर की प्रारम्भिक तिथि अर्थात पहली तारीख भी मानी जाती है। अतः लोग इन मान्यताओं के अनुसार पूरे हर्षोउल्लास के साथ देश-विदेश के विभिन्न भागों में दीपावली मानते हैं।
दीपावली के आने से कुछ दिनों पूर्व से ही लोग अपने घरों की साफ सफाई और रंग रोगन के कार्य में लग जाते हैं। इसके पश्चात लोग घरों पर विभिन्न प्रकार के बल्ब और रंगीन बल्ब से अपने घर बाहर सजाते हैं। घरों में रंगोलियां बनाई जाती है। अनेक प्रकार के पकवान बनाए जाते हैं। हर घर में गणेश-लक्ष्मी की प्रतिमा बिठाई जाती है। फूलों से घरों के प्रवेश द्वार को सजाया जाता है। दुकानदार अपने-अपने दुकानों में भी पूजन करते हैं। लोगों द्वारा सहर्ष जुआ खेला जाता है। घरों को दिये जलाकर प्रकाशित किया जाता है। बच्चे-बूढ़े सभी पटाखे छोड़ते हैं। पूरा दिन और रात सुहावना होता है।
वैसे तो दीपावली जब भी आती है लोगों में उत्सुकता और अपने घरों को नए रूप में सजाने की बेचैनी सहज ही देखी जा सकती है, लेकिन हर वर्ष देश के विभिन्न भागों में कोई न कोई दुर्घटना जरूर हो जाती है। लोगो की नासमझी और सही तरीके से पटाखे नहीं छोड़ने के कारण कई लोग पटाखों से घायल हो जाते हैं। कई बार तो खलिहान, घरों और दुकानों में पटाखों से आग लग जाती है। बच्चों को तो सबसे अधिक खतरा होता है। पटाखों के अत्यधिक प्रयोग से वातावरण भी प्रदूषित हो जाता है।
अतः हमें पर्यावरण के अनुकूल सामग्रियों से ही इस रोचक पर्व का आनंद लेना चाहिए। पटाखों के प्रयोग के समय सावधानी बरतना चाहिए। जब भी बच्चे पटाखों का प्रयोग करें, साथ में बड़े लोगों को उनका मार्गदर्शन करना चाहिए। हमें दिये, बत्ती और मिठाइयों के साथ जहां तक संभव हो इस पर्व को मनाने चाहिए।

Essay On Diwali In Hindi For Kids 

‘दीवाली’ हिन्दुओं का प्रसिद्ध त्यौहार है। दीवाली को ‘दीपावली’ भी कहते हैं। ‘दीपावली’ का अर्थ होता है – ‘दीपों की माला या कड़ी’।

दीवाली प्रकाश का त्यौहार है। यह हिन्दू कैलेंडर के अनुसार कार्तिक माह की अमावस्या को मनाई जाती है। दीवाली में लगभग सभी घर एवं रास्ते दीपक एवं प्रकाश से रोशन किये जाते हैं।

दीवाली का त्यौहार मनाने का प्रमुख कारण है कि इस दिन भगवान् राम, अपनी पत्नी सीता एवं अपने भाई लक्ष्मण के साथ 14 वर्ष का वनवास बिताकर अयोध्या लौटे थे। उनके स्वागत में अयोध्यावासियों ने दिये जलाकर प्रकाशोत्सव मनाया था। इसी कारण इसे ‘प्रकाश के त्यौहार’ के रूप में मनाते हैं।

दीवाली के दिन सभी लोग खुशी मनाते हैं एवं एक-दूसरे को बधाईयाँ देते हैं। बच्चे खिलौने एवं पटाखे खरीदते हैं। दुकानों एवं मकानों की सफाई की जाती है एवं रंग पुताई इत्यादि की जाती है। रात्रि में लोग धन की देवी ‘लक्ष्मी’ की पूजा करते हैं।

Essay On Diwali In Hindi Language

दीपावली या दीवाली रोशनी का त्योहार है
दीपावली का अर्थ है दीपों की पंक्ति।
दीपावली दीपों का त्योहार है।
इसे दीवाली या दीपावली भी कहते हैं।
इसे सिख, बौद्ध तथा जैन धर्म के लोग भी मनाते हैं।
दीपावली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात लौटे थे।
श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीए जलाए थे।
तब से आज तक प्रति वर्ष यह पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं।
यह पर्व अक्टूबर या नवंबर महीने में पड़ता है।
दीवाली अँधेरे से रोशनी में जाने का प्रतीक है।
कई सप्ताह पूर्व ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है।
दीपावली से पहले ही घर-मोहल्ले, बाज़ार सब साफ-सुथरे व सजे-धजे नज़र आते हैं।
दीवाली भारत में एक सरकारी छुट्टी है
दिवाली भारत के आलावा नेपाल , श्रीलंका , म्यांमार , मारीशस , गुयाना , त्रिनिदाद और टोबैगो , सूरीनाम , मलेशिया , सिंगापुर और फिजी में भी मनाया जाता है .
हिंदुओं के लिए दीवाली एक महत्वपूर्ण त्यौहार है

Here we have most recent accumulation of Essay On Diwali, Essay On Diwali In Hindi, Appreciate the beneath Diwali Essay in Hindi and Happy Diwali 2015 to every one of you and much obliged for picking us.  Essay On Diwali In Hindi,

Essay On Diwali In Hindi For Class 4 

essay on diwali in hindi
essay on diwali in hindi

 Essay On Diwali In Hindi, So this are the best essay on diwali in hindi, We hope you find the best essay on diwali in hindi Language.

                  Flowers  Rangoli designs
                  Short Essay On Diwali In Hindi
                  Essay On Diwali In Marathi
                  Essay On Diwali In Hindi Language
                  Essay On Diwali In English

Upcoming Searches

Essay on diwali in hindi for kids
Essay on diwali in hindi for class 6
Short essay on diwali in hindi
Essay on diwali in hindi wikipedia
Long essay on diwali in hindi
Essay on diwali in english
Essay on diwali in hindi for class 3